स्कूलों में बसंत पंचमी पर विशेष आयोजन

सिरोही जिले में विभिन्न स्कूलों में बसंत पंचमी का त्योहार मनाया गया जिसमे सेंट जेकेडी इंटरनेशनल स्कूल में प्राचार्या श्रीमती डिम्पल मेवाड़ा ने मां सरस्वती की तस्वीर के समक्ष दीपक प्रज्जवलित कर बसंत पंचमी के कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके बाद में सभी ने माँ सरस्वती की वंदना करते हुए इस पावन अवसर पर बच्चों ने भाषण, कविता गायन एवं सरस्वती वंदना आदि की प्रस्तुतियां दी। स्कूल के छोटे बच्चों ने ऑनलाइन माध्यम से इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। छोटे बच्चों ने घर से पीले रंग के वस्त्रों में अपने फोटोज और वीडियो स्कूल को भेजे।
बसंत पंचमी को माघ पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। बसंत पंचमी पर देवी सरस्वती की पूजा होती है। देवी सरस्वती को ज्ञान और विद्या की देवी माना गया है। वसंत पंचमी पर विद्या की देवी सरस्वती की पूजा-अर्चना कर बच्चों का विद्या संस्कार आरंभ किया जाता है।
इस दिन लोग पीले वस्त्र पहनकर मां की अराधना करते हैं। खेत सरसों के पीले फूलों से भर जाते हैं। पेड़-पौधों पर दोबारा पत्तियां आना शुरू हो जाती हैं। बसंत पंचमी का दिन होली के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। इस त्योंहार से चारों ओर खुशहाली व उमंग छा जाती है। इसके साथ ही आबूरोड में एच.जी. इंटरनेशनल स्कूल में बसंत पंचमी हर्षोउल्लास से मनाई गई। प्राचार्य गोपाल कौशिक के अनुसार विद्या की देवी माँ सरस्वती का जन्मदिवस श्रद्धापूर्वक मनाया गया। विशेष प्रार्थना सभा में प्राचार्य, शिक्षकों तथा छात्र-छात्राओं ने वेद मंत्रों के साथ माँ सरस्तवी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। दीप प्रज्वलित कर सरस्वती वंदना के साथ पूजा-अर्चना की तथा विभिन्न प्रकार के वसंत गीत, कविता आदि के मनमोहक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। सेेंट पाॅल्स सीनियर सैकेण्डरी स्कूल व सेेंट पाॅल्स कॉलेज ऑफ साइंस एंड मैनेजमेंट आबूरोड के प्रांगण में वसंत पंचमी का पावन पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। विर्धार्थियो को देशहित व समाजकल्याण के कार्यक्रमों में अग्रसर होने को प्रोत्साहित किया अन्य एसोसिएट प्रोफेसरस ने विर्धार्थियो को कौशलविकास के लिए प्रेरित किया वसंत पंचमी के इस अवसर पर कॉलेज के सभी बालक बालिकाओं ने रंगोली प्रतियोगिता में बड़ चढ़ कर हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *